*महिलाएं पुरूषों से कही अधिक मजबूत, जरुरत है आत्म विश्वास जगाने की* women are stronger then men

Symposium “REFLECTION” – JAIPUR
महिलाएँ किसी भी सभ्य समाज का आईना होती हैं । जिस समाज मे नारी अपने आपको
सुरक्षित महसूस नही करेगी, वो समाज कभी भी सभ्य समाज नही कहला सकता। सभ्य समाज के लिए नारी का सुऱि़क्षत होना जरूरी है।
message reflection 216

 

 

 

 

MESSAGE Org. organize Symposium “REFLECTION” (Awaken Women) at Geeta Bajaj W.TT. College , Md Road Jaipur. Guest speaker IPS Priti Chandra (AIG) Rajasthan police, seiner Journalist Shripal Shaktawat ,Deepak Goswami, Satyajeet Talukdar, Retired RPS Mr. Rajendra Singh Shekhawat, Social worker Seema seth , Sports person International shooter Snehalata Rajawat, purnima koul (Convener MESSAGE) and Krishna Singh (Geeta Bajaj WTT College management ).

आईपीएस प्रीति चन्द्रा (AIG) Rajasthan Police
महिलाएं पुरूषों से कही अधिक मजबूत होती है। उनमें सवेदनाएं होती है, ममता होती है। जरुरत है अपने आप पर विश्वास करने की अपने मे आत्म विश्वास जगाने की, आप देखेगी सफलता आपके कदम चुमेगी। मैं भी आप ही में से एक हूं मैने भी ऐसा ही सामना किया है, फिर भी मजबूत हौसले हो तो मंजिल मिल ही जाती है।

श्रीपाल शक्तावक्त
क्न्या भ्रण हत्या कंलक है हमरे समाज पर और इसकी जिम्मेदारी भी कही न कही महिलाओं की ही है। समाज केवल बेटों से नही बनता है समाज बेटे बेटियों से मिलकर ही बनता है, बेटियों को पढने का हक, दो बेटियों को पैदा होने का हक दो, उन्हे आगे बढ़ने का हक दो, बेटियां धर का आइना होती है। बेटियों को आत्म सम्मान जाग्रत करना पडेगा। सोशल मीडिया का सही ढ़ग से यूज कर अपने खिलाफ हो रहे अन्याय का विरोध करने का सशक्त माध्यम है।

राजेन्द्र सिह शेखावत, सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी
बेटियां हर घर का जीवन होती है, उल्लास होती है। समय रहते अगर अन्याय के खिलाफ आवाज उठाया जाए तो कोई कारण नही की किसी को अन्याय सहना पडें जरुरत है नजरे निची रखकर नही नजरे मिलाकर चले।

उक्त अवसर पर अन्तराष्ट्रीय शूटर स्नेहलता राजावत ने भी भावी अध्यापिकाओं से अपने जीवन के अनुभव साझा किए जीवन ंमें लक्ष्य व आत्मविश्वास हो तो बाधाएं अपने आप पूरी हो जाती है।
समाज सेवीका सिमा सेठ, गीता बजाज संस्थान की संचालिका कृष्णा सिंह ने बच्चियों से अपने अनुभव शेयर किए।
उक्त कार्यक्रम में संस्था की कन्वीनयर पूर्णिमा कौल ने भावी अध्यापिकाओं को उनकी जिम्मेदारियों के बारे में बताया वो कल का भावी भविष्य निर्माण करेगी। उन्हे समाज के सामने एक रोल मॉडल के रुप में प्रस्तुत करना है। साथ ही  उन्हे दहेज न लेने की शपथ दिलाई।
Advertisements

One thought on “*महिलाएं पुरूषों से कही अधिक मजबूत, जरुरत है आत्म विश्वास जगाने की* women are stronger then men

  1. Pingback: *महिलाएं पुरूषों से कही अधिक मजबूत, जरुरत है आत्म विश्वास जगाने की* women are stronger then men | Message NGO

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.