महिलायें आज अबाला नही सबला, जरूरत हैं – International women day (vasant Kunj, New Delhi)

Campaign – Be With Us
MESSAGE Org. organize Symposium “REFLECTION” (Awaken Women) at Central Park, Vasant Kunj, New Delhi. – International women day.

Message Reflection at delhi

Message Reflection at delhi

जिस समाज मे नारी अपने आपको सुरक्षित महसूस नही करेगी, वो समाज कभी भी सभ्य समाज नही कहला सकता। सुऱि़़़क्ष़्ात सभ्य समाज के लिए नारी का सुऱि़क्षत होना जरूरी है। इसी अवधारणा को स्थापित करने के लिए महिलाओं के अधिकार और महिलाओं में जनजाग्रती लाने के लिए मैसेज संस्था द्वारा बसंत अपार्टमेंट महिला समुह (शक्ति) के सयुक्त तत्वावधान में  विश्वं महिला दिवस के अव्सर पर कार्यक्रम रिफ्लेक्सन का रविवार, दिनांक .6 मार्च 2016 समय 11.00 बजे प्रातः सेंट्रल पार्क, बसंत अपार्टमेंट, बसंत कुंज. नई दिल्ली में आयोजित किया गया । इस अवसर पर कम्यूनिटी कि महिलाओं ने आज के समाज में महिलाओं में असुरक्षा कि भावना विशेस रूप से दिल्ली के वर्तमान पक्ष को लेकर अक्रोश दर्ज किया।

 मैसेज संस्थान कि प्रवक्ता स्वप्ना बरुआ ने समाज व पुलिस से अiगे बढ़कर सहयोग कि अपेक्षा पर जोर दिया, जिस समाज में महिलये सुरक्षित नही उस समाज को सभ्य समाज नही कहा जा सकता. इसके लिए महिलाओं को एक जूट होकर आवाज बुलंद करनी पड़ेगी.
इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार रवि पाराशर ने कविताओं के माध्यम से महिलाओं कि दशा ओर दिशा का चित्रण किया, .महिलये आज अबाला नही सबला हैं, जरूरत हैं  महिलाओं में अत्मविश्वाश  जाग्रत करने कि ।
इस अवसर  पर संस्था कन्विनर पूर्णिमा कोल के अनुसार  डॉक्टर तारकेश्वर, डॉक्टर सुनीता अग्रवाल, मयेर सरिता चैधरी, पूर्व डिप्टी मयेर प्रवीण राणा, पूलिस अधिकारी विजेन्द्र सिंह सहित कई गणमान्य लोग उपस्थिथ  थे ।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.