…जीवन और पर्यावरण एक दूसरे के पूरक, पर्यावरण के बगैर जीवन नामुमकिन -You can do to help make our planet greener – Earth Day

जीवन और पर्यावरण एक दूसरे के पूरक हैं. पर्यावरण के बगैर जीवन नामुमकिन है.
Please save the nature (Our Mother Earth)
earthday message ngo
“A nation that destroys its soils destroys itself. Forests are the lungs of our land, purifying the air and giving fresh strength to our people.”

पृथ्वी दिवस के अवसर पर सामाजिक सरोकारों से जुड़ी मेसेज संस्थान द्वारा समाज में जंन्जाग्रति लाने के उद्देश्य से सांगानेर कस्बे में पर्यावरण रेलि का आयोजन किया गया।  जिसमे बच्चों के माध्यम से आमजन को पर्यावरण के लिए हमारी जिम्मेदरियो के बारे में समझाइश कि गई।
इस अवसर पर संस्था कन्विनर पूर्णिमा कोल ने पर्यावरण ओर पृथ्वी के साथ हमारे रिश्तों के बारे में बताया गया । पर्यावरण के साथ हमारा रिश्ता रहा है. जीवन और पर्यावरण एक दूसरे के पूरक हैं. पर्यावरण के बगैर जीवन नामुमकिन है। शुद्ध पानी, पृथ्वी, हवा हमारे स्वस्थ जीवन की प्राथमिक शत्रे हैं. सहअस्तित्व का ऐसा उदाहरण दूसरा कोई नहीं है। आखिर यह संकट हमारे बीच के रिश्तों में आए असंतुलन का कुपरिणाम ही तो है। कार्यक्रम के दौरान बच्चों ने पेन्टिंग बना के पृथ्वी के प्रति अपनी जिम्मेदारि को कागज पर उकेर कर दशार्या। कार्यक्रम का मकसद समाज में जागरूकता लाना व यह समझाना था कि पॉलिथीन और कागज का इस्तेमाल ना करे, पौधे लगाये क्योंकि धरा है तो जीवन है। इसके के बगैर जीवन नामुमकिन है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.